समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका

Monday, September 1, 2008

फिर भी अंधों में काने राजा की तरह सज जाते-व्यंग्य कविता

किताबों में स्याही से लिखे शब्द

तब तक ज्ञान नहीं हो जाते

जब तक पढ़ नहीं जाते

पढ़े गये शब्द भी तब तक ज्ञान नहीं होते

जब तक उसके अर्थ समझे नहीं जाते

अर्थ समझने का मतलब भी

ज्ञान का आना नहीं

जब तक उन पर अमल नहीं कर पाते

ढेर सारी किताबों पढ़कर भी

कोई ज्ञान के सिंहासन पर नहीं बैठ जाता

भले ही कितना भी इतराता

जब आंखों से पढ़े

और कानों से सुने जाते हैं

अगर उन पर मनन नहीं करता आदमी तो

कुछ शब्द बाहर बह जाते

कुछ अंदर ही कीचड़ की तरह जम जाते

इसलिये लोग आधे अधूरे ज्ञान को ही

पूरा समझ जाते


इसलिये अहंकार की खाई से कभी नहीं निकल पाते

पर फिर भी अंधों में काने राजा की तरह सज जाते

...........................................................................

यह हिंदी शायरी मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की शब्दज्ञान-पत्रिका’ पर लिखी गयी है। इसके अन्य कहीं प्रकाशन के लिये अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की हिंदी पत्रिका
2.दीपक भारतदीप का चिंतन
3.अनंत शब्दयोग
कवि और संपादक-दीपक भारतदीप

................................................

2 comments:

परमजीत बाली said...

दीपक जी,बहुत सही व सटीक विचार, रचना में प्रेषित किए हैं।बहुत बेहतरीन लिखा है।

betuki@bloger.com said...

अच्छा लिखा

लोकप्रिय पत्रिकायें

विशिष्ट पत्रिकायें

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर