समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका

Thursday, January 22, 2009

बेपरवाह हवा की तरह-कविता

मेरे मन की हलचल से हुए घर्षण से पैदा
अग्नि के पुंज में पके
शब्दों के दानों से बनी खिचड़ी जैसी
सज गयी हो
पर तुम मेरी कविता हो

मेरे ख्यालों की उथल पुथल से प्रवाहित
भाव की नदिया में लहरों की तरह
बहते हुए शब्दों में तैरती
नाव की तरह लगती हो
पर तुम मेरी कविता हो

मेरे ख्यालों के पर्वत पर
खड़े शब्द फैले हैं शब्द, चट्टानों की तरह
उकेर दिया जो उनको कागज पर
तो एक तस्वीर की तरह लगती हो
पर तुम मेरी कविता हो

न छंद है
न कोई बंध है
इंसानी जज्बात किसी के नहीं पाबंद हैं
नहीं रोक सकता
उसे अपने अंदर
कोशिश की तो
बन जाता है कीचड़ का समंदर
गम हो या खुशी के शब्द
मन की कैद से बाहर निकल आते हैं
और अपना जलसा सजाते हैं
तुम तब चांदनी की तरह लगती है
पर तुम मेरी कविता हो

किसी को है पसंद
किसी को नापसंद
कभी हंसी होती है कभी दर्द होता है
शब्द तो बनाते वही चेहरा
जैसा अंतर्मन का भाव होता है
कोई तारीफ करे या
कोई बिफर जाये
पर तुम बेपरवाह हवा की तरह
बहती लगती हो
पर तुम मेरी कविता हो

................................................
यह कविता/आलेख इस ब्लाग ‘दीपक भारतदीप की शब्दज्ञान- पत्रिका’ पर मूल रूप से लिखा गया है। इसके अन्य कहीं भी प्रकाशन की अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.दीपक भारतदीप का चिंतन
3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिकालेखक संपादक-दीपक भारतदीप

लोकप्रिय पत्रिकायें

विशिष्ट पत्रिकायें

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर