समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका

Monday, January 26, 2009

मजे का पैमाना शून्य हो जायेगा-हिंदी शायरी

तू तमीज वाला लिख
या बदतमीजी से भरा शब्द
वैसा ही प्रतिशब्द लौटकर तेरे पास आयेगा
जो लिखेगा शब्द सुंदर भाषा से सजे
तो वाह वाह से गूंजे शब्दों का
सुर तेरे पास लहरायेगा।
जो अभद्र शब्द सजायेगा
तो कहीं से सुनेगा वैसा ही जवाब
कहीं से उठी आह का शिकार हो जायेगा।

ओ कवि! गुस्से में हो या खुशी में
लिखते हुए अपने जज्बातों में
बस उतनी ही तेजी से बहना
जितनी गति का हो सके तेरे से सहना
पढ़ने वाली आंखों का भी ख्याल करना
जब तक हैं तेरी कमान में तीर की तरह शब्द
उनको छोड़ने से पहले
निशाने का भी ख्याल करना
तीर की तरह शब्द भी नहीं लौटते
पर उनके जवाब भी वैसे ही
सामने से भी आते हैं
जैसे होते हैं शब्द वैसे ही
प्रतिशब्द भी आते हैं
जिन अच्छे शब्दों को लिखने का
मजा तुमने लिये लिया था
सामने से आये जवाब से
वह दोहरा आयेगा
जिन खराब शब्दों को लिख कर
तुम बहुत खुश हुए थे
वह भी वैसे ही बुरे प्रतिशब्द लेकर आयेंगे
तब तुम्हारा दिल पछतायेगा
मजे का पैमाना शून्य हो जायेगा

..................................
यह कविता/आलेख इस ब्लाग ‘दीपक भारतदीप की शब्दज्ञान- पत्रिका’ पर मूल रूप से लिखा गया है। इसके अन्य कहीं भी प्रकाशन की अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.दीपक भारतदीप का चिंतन
3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिकालेखक संपादक-दीपक भारतदीप

2 comments:

विनय said...

गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ

---आपका हार्दिक स्वागत है
गुलाबी कोंपलें

समयचक्र - महेद्र मिश्रा said...

बहुत सटीक.
गणतंत्र दिवाद की शुभकामना

लोकप्रिय पत्रिकायें

विशिष्ट पत्रिकायें

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर