समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका

Monday, December 29, 2008

अपने गम पर पछताओगे बाद में-हिंदी शायरी

खींचते गये बिना सोचे समझे लकीर पर लकीर
खुद ही नहीं समझे, बन गयी ऐसी एक तस्वीर ?
कागज पर लिखे कई शब्द जो शायरी बन गये
फिर भी तन्हाई का संग रहा,रूठी रही तकदीर
ढूंढ रहे है कोई साथी भटके लोगों की भीड़ में
वफा के वादे झूठे करते, इंसान हो या कोई पीर
यकीन कोई नहीं करता कि हम कभी निभायेंगे
टूटे बिखरे लोगों को दिखाया चाहे अपना दिल चीर
......................................
मत तड़पो किसी की याद में
मिलना बिछड़ना तो दुनियां का कायदा है
जिनके लिये दिल को तकलीफ देते हो
वह भुलाकर कहीं मना रहे जश्न
जान लोग जब यह सच तो
अपने गम पर पछताओगे बाद में

.........................

यह कविता/आलेख इस ब्लाग ‘दीपक भारतदीप की शब्दज्ञान- पत्रिका’ पर मूल रूप से लिखा गया है। इसके अन्य कहीं भी प्रकाशन की अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.दीपक भारतदीप का चिंतन
3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिकालेखक संपादक-दीपक भारतदीप

1 comment:

विनय said...

भावविभोर कर दिया आपने!

लोकप्रिय पत्रिकायें

विशिष्ट पत्रिकायें

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर