समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका

Monday, July 6, 2009

नही भज सकते अब साली और भाभी-व्यंग्य कविता (hasya vyangya kavita)

दनदनाता हुआ आया फंदेबाज और बोला
‘दीपक बापू, तुम्हारे हिट होने के मिली गयी चाभी
तुम भी बना लो कोई व्यंग्य पात्र
जिसके नाम के साथ जोड़ दो भाभी।
गारंटी है हमारी, तुम्हारे फ्लाप होने का
सिलसिला भी टूट जायेगा
हर विरोधी सामने से फूट जायेगा
देखो प्रतिबंधित हो गयी एक वेबसाईट
जिसकी नायिका थी कोई कल्पित भाभी
लोग उसे अब अधिक ढूंढ रहे हैं
नाम लेकर लिख लिखकर कंप्यूटर पर कूद रहे हैं
तुम अपना ब्लाग भी पहुंचा दो
हिट का ताला खोलने वाली यही है एक चाभी।

सुनकर पहले चौंके
फिर अपना पसीना पौंछते कहें बोले दीपक बापू
‘कमबख्त इंटरेनेट पर कोई नाम हिट नहीं होता
बूढ़े हों या जवान ‘सेक्स’ शब्द डालकर
लगाते हैं यौन साहित्य के अथाह समुद्र में गोता।
अपनी आंखें फोड़ते रहेंगे
अपने ही शरीर का रस जलाकर
किससे शिकायत करेंगे
नाम कोई भी हो
घरवाली शब्द हिट नहीं दिला सकता
साली लिखो तभी कोई जाल में फंसता
जेठ को हिट नहीं बना सकती भाभी
देवर ही उसके यौन साहित्य की है एक चाभी।
तुमने आने में कर दी है देरी
हम लगा चुके भाभी साहित्य घर की फेरी।
मिल भी गये हिट वहां तो
हमारे किस काम आयेगा
हम ठहरे फोकटिया, धेला भी हाथ नहीं आयेगा।
फिर सोचो
आदमी कब तक उस श्रृंगार रस से चिपका रहेगा
कभी तो अति होने की बात कहेगा
फिर हास्य रस की तरफ आयेगा
फंदेबाज, सच कहें तो
तुमने इतने हिट दिला दिये हैं
उन पर ही हमें नाज है
तुम्हारे सामने पहली बार खोला यह राज है
इससे अधिक क्या कहें
नहीं भज सकते अब साली और भाभी।

...............................
यह आलेख/हिंदी शायरी मूल रूप से इस ब्लाग
‘दीपक भारतदीप की शब्दज्ञान-पत्रिका’
पर लिखी गयी है। इसके अन्य कहीं प्रकाशन के लिये अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की हिंदी पत्रिका
2.दीपक भारतदीप का चिंतन
3.अनंत शब्दयोग
कवि और संपादक-दीपक भारतदीप

1 comment:

लोकप्रिय पत्रिकायें

विशिष्ट पत्रिकायें

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर